प्रधानमंत्री गोबर धन योजना 2024, ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन (Pradhan Mantri Gobar Dhan Yojana in Hindi)

Pradhan Mantri Gobar Dhan Yojana : भारतीय सरकार के द्वारा गांव में साफ सफाई को बढ़ावा देने के लिए साथ ही किसान भाइयों की आय में बढ़ोतरी करने के लिए प्रधानमंत्री गोबर धन योजना की शुरुआत साल 2018 में ही कर दी गई थी। इस प्रकार से इस योजना को चलते हुए वर्तमान में तकरीबन 4 से 5 साल का समय हो गया है। हालांकि अभी भी ऐसे कई किसान हैं जिन्हें इस योजना के बारे में पूरी जानकारी नहीं है, इसलिए वह इस योजना का लाभ प्राप्त करने से वंचित है। आइए आज के इस आर्टिकल में जानते हैं कि पीएम गोबर धन योजना क्या है और प्रधानमंत्री गोबर धन योजना में आवेदन कैसे करें।

प्रधानमंत्री लघु व्यापारी मानधन पेंशन योजना

Table of Contents

गोबर धन योजना 2023 (Gobar Dhan Yojana in Hindi)

योजना का नाम गोबर धन योजना
किसने शुरू की केंद्र सरकार ने
लाभार्थी भारत के नागरिक
उद्देश्य गोधन का उपयोग करना
श्रेणी केंद्र सरकारी योजनाएं
हेल्पलाइन नंबर 011-24362129

 

प्रधानमंत्री गोबर धन योजना क्या है (What is Pradhan Mantri Gobar Dhan Yojana)

अरुण जेटली जी के द्वारा साल 2018 में 1 फरवरी के दिन इस योजना की शुरुआत देश के ग्रामीण इलाकों के लिए की गई है। प्रधानमंत्री गोबर धन योजना के अंतर्गत भारत की केंद्र सरकार के द्वारा देश में जो जिले मौजूद है उन सभी जिलों में से 1 गांव का सिलेक्शन किया जाएगा और हर जिले में एक कलस्टर को बनवाते हुए तकरीबन 700 कलस्टर की स्थापना सरकार के द्वारा करवाई जाएगी। इस योजना का बेनिफिट मुख्य तौर पर किसानों के साथ ही साथ उनके परिवार वालों को मिलेगा, जिससे उनकी आर्थिक अवस्था में सुधार आएगा। प्रधानमंत्री गोबर धन योजना का अन्य नाम गेलवेनाइजिंग ऑर्गेनिक बायो एग्रो रिसोर्सेस योजना भी है।

इस योजना में केंद्र सरकार के द्वारा 60 परसेंट और राज्य सरकार के द्वारा 40% के अनुपात में पैसा उपलब्ध करवाया जाएगा। इस प्रकार से जो भी किसान भाई योजना का लाभ प्राप्त करना चाहते हैं, उन्हें योजना में आवेदन करने के लिए आधिकारिक पोर्टल पर विजिट करना होगा। किसान भाई इस योजना के अंतर्गत गोबर और फसल के अवशेष को सरकार के हाथों बेच सकेंगे और इसके बदले में पैसा कमा सकेंगे। सरकार के द्वारा योजना के तहत पशुओं के गोबर और भूसा, पत्ते इत्यादि को कंपोस्ट करने का काम किया जाएगा और उसके पश्चात इन्हीं चीजों से बायोगैस या फिर बायो सीएनजी का निर्माण किया जाएगा और उनकी बिक्री आगे करके सरकार भी पैसा प्राप्त करेगी।

 

प्रधानमंत्री गोबर धन योजना का उद्देश्य (Objective)

हमारे भारत देश के ग्रामीण इलाकों में अधिकतर किसान खेती के साथ-साथ पशुपालन का भी काम करते हैं, जिसके अंतर्गत गाय और भैंस और बकरी इत्यादि का पालन किसानों के द्वारा किया जाता है। इन सभी जानवरों के द्वारा रोजाना बड़ी मात्रा में गोबर किया जाता है जिसका कोई भी इस्तेमाल नहीं होता है। इसीलिए किसान भाई गोबर को किसी निश्चित जगह पर ले जाकर के फेंक देते हैं, जिससे काफी अधिक गंदगी फैलती है, परंतु अब सरकार ने इसी गंदगी को दूर करने के लिए साथ ही किसानों को फायदा पहुंचाने के लिए प्रधानमंत्री गोबर धन योजना की शुरुआत कर दी है।

इस योजना की वजह से स्वच्छ भारत मिशन का भी उद्देश्य पूरा होगा, क्योंकि सरकार योजना के तहत किसानों के द्वारा इकट्ठा किए गए गोबर का इस्तेमाल करके बायोगैस, जैविक खाद और सीएनजी का निर्माण करेगी, जिससे गांव में साफ सफाई भी होगी और किसान को भी फायदा होगा तथा सरकार को भी फायदा होगा।

 

प्रधानमंत्री गोबर धन योजना के लाभ एवं विशेषताएं (Benefit and Features)

  • सरकार के द्वारा इस योजना के अंतर्गत किसान भाइयों से गोबर की खरीदारी की जाएगी।
  • इकट्ठा किए गए गोबर का इस्तेमाल सरकार के द्वारा सीएनजी और बायोगैस का निर्माण करने के लिए किया जाएगा।
  • गोबर की खरीदारी करने के बदले में सरकार किसानों को पैसा भी देगी।
  • सरकार भी तैयार सीएनजी और बायोगैस की बिक्री करके पैसा कमा सकेगी।
  • सरकार की इस योजना की वजह से भारत के ग्रामीण इलाकों में स्वच्छता में बढ़ोतरी होगी जिसकी वजह से मच्छर कम पैदा होंगे और मलेरिया जैसी बीमारी की संभावना भी घटेगी।
  • किसानों को योजना का लाभ लेने के लिए ज्यादा परेशानियों का सामना ना करना पड़े, इसके लिए सरकार के द्वारा ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया का सिस्टम इस योजना में रखा गया है।
  • 60% पैसा योजना के लिए केंद्र सरकार देगी और 40 परसेंट पैसा योजना के लिए राज्य सरकार देगी।
  • योजना के तहत सामुदायिक, व्यक्तिगत, सेल्फ हेल्प ग्रुप, गौशाला, एनजीओ स्तर पर भारत के ग्रामीण इलाके में गोबर गैस प्लांट की स्थापना की जाएगी।
  • योजना के तहत गोबर, भूसा, पत्ते इत्यादि को कमपोस्ट किया जाएगा और बायोगैस का निर्माण किया जाएगा।

 

प्रधानमंत्री गोबर धन योजना में पात्रता (Eligibility)

  • योजना का फायदा भारतीय मूल निवासियों को मिलेगा।
  • योजना के मुख्य लाभार्थी किसान भाई होंगे।

 

प्रधानमंत्री गोबर धन योजना में दस्तावेज (Documents)

  • आवेदक का आधार कार्ड
  • निवास प्रमाण पत्र
  • मोबाइल नंबर
  • ईमेल आईडी
  • पासपोर्ट साइज फोटो

 

पीएम गोबर धन योजना में ऑनलाइन आवेदन (Online Application)

  • इस योजना में आवेदन करने के लिए सबसे पहले आपको मोबाइल में डाटा कनेक्शन ऑन करना है और उसके बाद आपको योजना की आधिकारिक वेबसाइट के लिंक पर क्लिक करके आधिकारिक वेबसाइट के होम पेज पर चले जाना है।
  • वेबसाइट के होम पेज पर जाने के बाद आपको जो पंजीकरण वाला ऑप्शन दिखाई दे रहा है, उसी ऑप्शन पर क्लिक करना है। ऐसा करने से एक अगला पेज आपकी स्क्रीन पर ओपन होकर आ जाता है।
  • आपकी स्क्रीन पर जो पेज आया है, उसमें आपको निश्चित जगह में जो भी जानकारियां दर्ज करने के लिए कहा जा रहा है, उन सभी जानकारियों को दर्ज करना है। जैसे कि अपनी व्यक्तिगत जानकारी, एड्रेस डिटेल, पंजीकरण डिटेल इत्यादि।
  • सभी जानकारियों को दर्ज करने के बाद आपको अपलोड डॉक्यूमेंट वाले ऑप्शन पर क्लिक करके आवश्यक दस्तावेज को भी अपलोड कर देना है।
  • अब सबसे आखरी में आपको नीचे की तरफ देखना है वहां पर जो सबमिट वाली बटन दिखाई दे रही है उस पर क्लिक करना है।
  • इस प्रकार से उपरोक्त प्रक्रिया का पालन करके आप आसानी से इस योजना में अपना आवेदन ऑनलाइन कर सकते हैं।

 

प्रधानमंत्री गोबर धन योजना में लॉगिन करें (Login Process)

  • इसमें सबसे पहले आपको ऑफिशियल वेबसाइट के होम पेज पर चले जाना है।
  • वेबसाइट के होम पेज पर जाने के बाद आपको जो लॉगइन वाला ऑप्शन दिखाई दे रहा है, उसी ऑप्शन पर क्लिक करना है।
  • अब आपको निश्चित जगह में यूजरनेम डालना है और उसके बाद पासवर्ड को दर्ज करना है और नीचे जो कैप्चा कोड आपको दिखाई दे रहा है उसे भी आपको दर्ज करना है।
  • अब सबसे आखरी में आपको जो लॉगिन वाला ऑप्शन दिखाई दे रहा है, उसी ऑप्शन पर क्लिक कर देना है।
  • इतनी प्रक्रिया जब आपके द्वारा कर ली जाती है, तो आप योजना के आधिकारिक वेबसाइट में लॉगिन हो जाते हैं।

 

यूजर मैनुअल डाउनलोड करें (Download User Manual)

  • यूजर मैन्युअल डाउनलोड करने के लिए आपको सबसे पहले किसी भी ब्राउज़र में पेयजल और स्वच्छता डिपार्टमेंट की आधिकारिक वेबसाइट के होम पेज को ओपन करना है।
  • अब आपको जो यूजर मैन्युअल वाला ऑप्शन दिखाई दे रहा है, उसी ऑप्शन पर क्लिक करना है। ऐसा करने से आपकी स्क्रीन पर यूजर मैन्युअल ओपन होकर आ जाता है।
  • अब आप चाहें तो यूजर मैन्युअल को डाउनलोड कर सकते हैं और इसका प्रिंटआउट भी निकाल सकते हैं।

 

रिसोर्सेस से संबंधित जानकारी प्राप्त करें (Resources Related Detail)

  • रिसोर्सेज से संबंधित इंफॉर्मेशन को हासिल करने के लिए सबसे पहले आपको इस योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • आधिकारिक वेबसाइट पर जाने के बाद आपके स्क्रीन पर वेबसाइट का होम पेज ओपन हो जाता है, जिसमे आपको जो रिसोर्स वाला ऑप्शन दिखाई दे रहा है उस पर क्लिक करना है‌।
  • अब आपकी स्क्रीन पर एक नया पेज ओपन होकर आ जाता है जिसमें आपको लेवल का सिलेक्शन करना होता है।
  • इतनी प्रक्रिया पूरी करने के बाद संबंधित इंफॉर्मेशन आपके डिवाइस की स्क्रीन पर आ जाती है।

 

टेक्निकल एजेंसी से संबंधित जानकारी प्राप्त करें (Technical Agency Related Detail)

  • टेक्निकल एजेंसी से संबंधित जानकारी को पाने के लिए आपको योजना की आधिकारिक वेबसाइट के होम पेज पर जाना है।
  • वेबसाइट के होम पेज पर जाने के बाद आपको जो इंफॉर्मेशन वाला ऑप्शन दिखाई दे रहा है, इसी ऑप्शन पर क्लिक करना है।
  • अब आपको एक टेक्निकल एजेंसी वाला ऑप्शन मिलेगा, आपको इस ऑप्शन पर भी क्लिक कर देना है।
  • अब आपको अलग-अलग राज्यों में से अपने राज्य का सिलेक्शन करना है‌। अब संबंधित इंफॉर्मेशन आपके डिवाइस की स्क्रीन पर आ जाएगी।

 

सपोर्ट एजेंसी से संबंधित जानकारी प्राप्त करें (Support Agency Related Detail)

  • सपोर्ट एजेंसी से संबंधित जानकारी को पाने के लिए आपको योजना की ऑफिशियल वेबसाइट के होम पेज पर जाना है और उसके बाद इंफॉर्मेशन वाले ऑप्शन पर क्लिक करना है।
  • अब आपको सपोर्ट एजेंसी वाले ऑप्शन पर क्लिक करना है। ऐसा करने से अगला पेज आपकी स्क्रीन पर आता है।
  • आपकी स्क्रीन पर जो पेज आया है, उसमें अब आप सपोर्ट एजेंसी की जानकारी को चेक कर सकते हैं अथवा देख सकते हैं।

 

पब्लिसिटी मेटेरियल डाउनलोड करें (Publicity Material Download)

  • पब्लिसिटी मटेरियल को डाउनलोड करने के लिए आपको गोबर धन योजना की आधिकारिक वेबसाइट के होम पेज को ओपन करना है और उसके बाद इंफॉर्मेशन वाले ऑप्शन पर क्लिक करना है।
  • अब आपको पब्लिसिटी मटेरियल वाला एक ऑप्शन दिखाई देगा, इसी ऑप्शन पर क्लिक कर देना है।
  • अब आपकी स्क्रीन पर अलग-अलग प्रकार के ऑप्शन आएंगे, जिनमें से आपको अपनी आवश्यकता वाले ऑप्शन पर क्लिक करना है। अब संबंधित जानकारी आ जाएगी।

 

गोबर-धन योजना के तहत 500 नये कचरे से संपदा निर्माण करने वाले संयंत्र की जाएगी स्थापना

भारत की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 1 फरवरी 2023 को वित्तीय वर्ष 2023-24 के लिए बजट पेश करते हुए कहा कि संसाधनों के महत्वपूर्ण उपयोग वाली अर्थव्यवस्था (सर्कुलर इकोनामी) को बढ़ावा देने के लिए गोवर्धन (गैलवनाइजिंग ऑर्गेनिक बायो एग्रो रिसोर्सेस) योजना के तहत नये कचरे से संयंत्रों को स्थापित किया जाएगा। सरकार द्वारा कचरे से संपदा निर्माण करने वाले 500 संयंत्रो की स्थापना की जाएगी। जिनमें शहरी क्षेत्रों में 75 संयंत्रों सहित 200 बायोगैस संयंत्र को शामिल किया जाएगा।

इसके अलावा इस योजना के अंतर्गत 300 समुदाय या कलस्टर आधारित संयंत्र को भी सम्मिलित किया जाएगा। वहीं इसी के साथ गोवर्धन योजना के कार्यान्वयन के लिए सरकार द्वारा 10 करोड़ रुपए का निवेश किया जाएगा। ताकि गोवर्धन योजना को सभी राज्य में सुचारू रूप से संचालित किया जा सके।

 

गोबर धन योजना के स्टेक होल्डर

  • डिपार्टमेंट ऑफ एग्रीकल्चरल रिसर्च एंड एजुकेशन।
  • डिपार्टमेंट ऑफ एग्रीकल्चर, कोऑपरेशन एंड फार्मर्स वेलफेयर।
  • मिनिस्ट्री ऑफ न्यू एंड रिन्यूएबल एनर्जी।
  • डिपार्टमेंट ऑफ रूरल डेवलपमेंट।
  • मिनिस्ट्री ऑफ पेट्रोलियम एंड नेचुरल गैस।
  • डिपार्टमेंट ऑफ ड्रिंकिंग वॉटर एंड सैनिटेशन।
  • डिपार्टमेंट ऑफ एनिमल हसबेंडरी एंड डेयरिंग।

 

गोबर धन योजना 2024 का कार्यान्वयन

  • भारत सरकार द्वारा प्रारंभ की गयी GOBAR Dhan 2024 के अंतर्गत ग्राम पंचायत द्वारा व्यक्तिगत बायोगैस संयंत्र की स्थापना गाँव के ऐसे आवासों में करवाया जायेगा जहाँ 5 से अधिक पशु उपलब्ध होंगे।
  • इन आवासों में 1- 3 m³ आकार का बायोगैस संयंत्र का निर्माण किया जायेगा।
  • इसके साथ ही अगर किसी ग्राम पंचायत में अधिक पशु उपस्थित होंगे तो इस दशा में एक सामान्य बायोगैस संयंत्र का निर्माण किया जायेगा, जिसकी क्षमता 4-10 m³ होगी।
  • जिलों में केंद्र सरकार की इस योजना के सुचारू कार्यान्वयन का कार्य ऐसी एजेंसीयों के माध्यम से किया जाएगा, जिनके समक्ष न्यूनतम 3 वर्ष का अनुभव प्राप्त हो।
  • इसके अतिरिक्त जिले स्तर पर इस योजना की देखरेख का कार्य डीडब्ल्यूएससी द्वारा किया जायेगा।
  • गोबर धन योजना के तहत निर्मित सभी संयंत्रों की देखरेख डीडब्ल्यूएससी द्वारा प्रत्येक 4 माह के अंतराल पर की जाएगी एवं
  • इसकी रिपोर्ट नेशनल आईएमआईएस पोर्टल पर उपलब्ध की जाएगी।
  • इसके साथ ही भारत सरकार द्वारा शुरू की गयी इस योजना के तहत संचालित सभी परियोजनाओं का ऑडिट प्रत्येक वर्ष किया जायेगा।

 

बायोगैस संयंत्र हेतु स्थल का चयन

  • गोबर-धन योजना 2024 के तहत बायोगैस प्लांट का निर्माण भूमि गत किया जायेगा, जिससे गैस होल्डर में किसी भी प्रकार का दरार नहीं आएगा।
  • बायोगैस संयंत्रों का निर्माण ऐसे खुले स्थानों पर किया जायेगा, जहाँ आस-पास कोई भी पेड़-पौधे ना हो।
  • इसके साथ ही संयंत्रों को रसोई घर एवं पशु शेड के सम्मुख स्थापित करने का प्रयत्न्न किया जायेगा।
  • आवासों के समक्ष बायोगैस संयंत्रों के निर्माण करने की दशा में संयंत्रों को आवास के नीव से लगभग 2 मीटर के दूरी पर स्थापित किया जायेगा ताकि आवास के नीव में कोई दरार उत्पन्न ना हो।
  • इसके अतिरिक्त बायोगैस संयंत्रों की स्थापना ऐसे स्थलों पर किया जायेगा, जिसके सम्मुख पानी का कोई स्रोत उपस्थित ना हो।

 

अभी तक कितनी कवरेज हुई

गोबरधन योजना के ऑफिशियल पोर्टल से मिली जानकारी के मुताबिक यह योजना मवेशियों और जैविक कचरे के सुरक्षित प्रबंधन पर एक जन आंदोलन है, जिसके तहत 584 बायो-गैस/सीबीजी प्लांट स्थापित हो चुके हैं और अपना काम चालू कर चुके हैं। 175 बायो-गैस/सीबीजी संयंत्र अभी भी निर्माणाधीन हैं। गोबरधन स्कीम के तहत 151 जिलों को कवर किया जा चुका है, जहां बायो गैस और सीबीजी प्लांट स्थापित किए गए हैं।

 

पीएम गोबर धन योजना हेल्पलाइन नंबर (Helpline Number)

हमने आर्टिकल के माध्यम से उपरोक्त योजना के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी आपको प्रदान की। नीचे हम आपको योजना का हेल्पलाइन नंबर भी प्रदान कर रहे हैं, ताकि आप किसी भी प्रकार की जानकारी योजना से संबंधित हेल्पलाइन नंबर 011-24362129 पर फोन लगाकर प्राप्त कर सकें।

Leave a Comment

Post Office RD Scheme 2024: गजब की है यह स्कीम, हर महीने निवेश पर मिलेगा शानदार रिटर्न गाय गोठा अनुदान महाराष्ट्र 2024: Gay Gotha Yojana Form, लाभ एवं पात्रता महिलाओं के लिए गारंटी रहित 25 लाख तक का ऋण, जानिए क्या है आवेदन प्रक्रिया झारखण्ड अबुआ आवास योजना किसानों को anaajkharid.in पोर्टल पर पंजीकरण करना है जरुरी, वरना नहीं मिलेगा लाभ