बिहार सब्जी विकास योजना 2023: सरकार दे रही 75% सब्सिडी (Bihar Sabji Vikas Yojana) सब्जी की खेती करने वाले किसानों को तोहफा, होगा तगड़ा मुनाफा

Bihar Sabji Vikas Yojana : बिहार सरकार के कृषि विभाग की ओर से सब्जियों पर सब्सिडी देने की योजना चल रही है। इस योजना का नाम बिहार सब्जी विकास योजना है। इस योजना को केन्द्र सरकार की तरफ से किसी भी प्रकार की कोई सुविधा मुहैया नहीं कराई गई है, बल्कि इसका सारा भार राज्य सरकार के ऊपर है। सब्जी विकास योजना इस योजना के तहत बिहार राज्य ने अपने राज्य के किसानों के लिए सब्जी उत्पादन संबंधित सुविधा देने के लिए इस तरह की योजना का क्रियांवयन किया हैं। वैसे देखा जाए तो बिहार सरकार ने अपने राज्य के किसानों के लिए बहुत सी कल्याणकारी योजनाएं शुरू की हैं और उससे किसानों को काफी फायदा भी देखने को मिल रहा है और यह भी योजना किसानों से ही संबंधित योजना है। इस योजना के बारे में हमारे लेख के माध्यम से आपको विस्तार पूर्वक वर्णन प्राप्त होगा कि आप इस योजना का लाभ कैसे उठा सकते हैं।

 

बिहार सब्जी विकास योजना 2023 (Bihar Sabji Vikas Yojana)

योजना का नाम सब्जी विकास योजना
किस राज्य में लॉन्च की गई बिहार राज्य
लॉन्च की डेट 10 अक्टूबर 2023
लाभार्थी बिहार के कुछ जिलों में लॉन्च की गई है पटना, मगध और तिरहुत
उद्देश्य बिहार के किसानों के लिए सब्जी उत्पादन की ओर आकर्षित करना
वेबसाइट horticulture.bihar.gov.in

 

बिहार सब्जी विकास योजना क्या हैं

बिहार सरकार द्वारा अपने किसानों के लिए एक और कल्याणकारी योजना के रूप में सब्जी विकास योजना को लॉन्च किया है, जिसके माध्यम से अपने किसान नागरिकों को इसके तहत काफी सुविधाएं प्रदान की जायेगी किसान  भाईयों के लिए बिहार राज्य ने उन्हें सब्जी संबंधित खेती करने के लिए इस योजना की शुरुआत की है। जिससे उनमें पारंपरिक खेती को छोड़कर लाभकारी खेती की ओर अग्रसर हों जिससे उनका मुनाफा भी बढ़ सके और अपना विकास भी कर सके ।और आर्थिक स्थित को भी अच्छा करने की पूरी कोशिश कर सके इस योजना में बिहार राज्य के सभी किसानों को पूरी तरह से सब्जी उगाने के लिए सुविधा प्रदान की जायेगी।

 

बिहार सब्जी विकास योजना में अनुदान

अभी हाल ही में जो बिहार सरकार द्वारा एक योजना लॉन्च की गई है सब्जी विकास योजना हैं जिसमें बिहार सरकार ने यह कहा हैं कि जो भी किसान सब्जी की खेती करेगा उस बिहार सरकार की तरफ से 75% का अनुदान प्राप्त होगा। अभी अनुदान की सुविधा देने के बाद बिहार राज्य में किसानों के द्वारा सब्जी की उत्पादन की ओर आकर्षण बढ़ने लगा हैं और लोग इस क्षेत्र में कार्य की ओर अग्रसर होने लगे हैं। उदाहरण के लिए मान लेते हैं कि किसी भी फसल की लागत ₹100 आई हैं उसमें से 75 रुपये बिहार सरकार की ओर से सब्सिडी प्रदान की जायेगी।

मुख्यमंत्री पशुपालन विकास योजना मध्यप्रदेश

बिहार सब्जी विकास योजना में उत्पादन में शामिल की गई सब्जियां

बिहार सरकार द्वारा सब्जी संबंधित ब्यौरा भी दिया गया हैं, कि उन्हीं सब्जियों पर अनुदान की राशि प्राप्त होगी जो उनके द्वारा सब्जी प्रदान की जायेगी और जिन सब्जियों को बिहार सरकार द्वारा यह बताया जाएगा कि इन्हीं का उत्पादन करना है। उन सब्जियों के नाम इस प्रकार हैं, अगर देखा जाए तो बिहार सरकार ने मुख्य रूप से ऊँचे दाम वाली सब्जी को उत्पादन के लिए प्रोत्साहित किया हैं जिसमें ब्रोकोली कॉलर कैप्सकम, बिना बीज के बैंगन, और बिना बीज के खीरा, रवि के मौसम की बंध को भी, फूलगोभी, मिर्च एव्ं गर्मियों के मौसम की सब्जियां, आलू, बैंगन, प्याज लौकी आदि  इन्हीं सब सब्जियों का उत्पादन किसानों द्वारा किया जाएगा और तभी बिहार सरकार की ओर से इन्हें लाभ प्राप्त होगा।

 

बिहार सब्जी विकास योजना कहां लागू होगी

इस योजना के तहत बिहार के कुछ-कुछ जिले के किसानों के लिए बहुत बड़ी खुशखबरी है वह जिले हैं पटना, मगध और तिरहुत हैं। वहाँ पर इस योजना के तहत सब्जी के उत्पादन के लिए सुविधा प्रदान की जायेगी। किसानों बिछड़ा सेंटर  एक्सीलेंस नालंदा राज्य बीज निगम पटना से प्राप्त कर सकते हैं. और यह भी बताया गया है, कि राज्य सरकार की तरफ से किसानों को न्यूनतम ₹1000 और अधिकतम ₹10,000 की आर्थिक सहायता भी प्रदान की जायेगी।

 

बिहार सब्जी विकास योजना के उद्देश्य

  • सब्जी संबंधित उत्पादन क्षमता को बढाना हैं इसलिए इस योजना को शुरू किया गया है।
  • किसानों के पारंपरिक खेती के रूझान को कम करके सब्जी संबंधित खेती की ओर आकर्षित करना हैं।
  • सब्जी उत्पादन से किसानों की आय में बढ़ोतरी देखने को मिल सकती हैं।
  • इस योजना का मुख्य उद्देश्य यह भी हैं जो बिहार में आर्थिक तंगी देखने को मिल रही हैं इसके माध्यम से आर्थिक तंगी कम की जा सकती है।
  • और किसानों भाईयों के विकास को देखा जा सकता हैं क्योंकि आय संबंधित कमी को वह इस योजना के तहत कम कर सकते हैं।

 

बिहार सब्जी विकास योजना की विशेषताएं एवं लाभ

  • सब्जी विकास योजना के तहत जो किसानों कमाने के लिए अन्य राज्यों में आना पड़ता हैं वह आना कम देखने को मिल सकता हैं, पहले वहाँ पर कमाई के कोई साधन नहीं थे मगर अब बिहार सरकार इन्हें छूट प्रदान करके कार्य करने की प्रेरणा दे रही हैं।
  • इससे किसान भाईयों का एक हिसाब से फायदा ही होगा उन्हें लागत में ज्यादा रुपये खर्च नहीं करना पड़ेगा। सारा भार बिहार सरकार द्वारा अपने ऊपर लिया जाएगा।
  • इससे किसानों भाईयों की आय में भी बढ़ोतरी देखने को मिल सकती है क्योंकि धान, गेहूं से बढ़कर अब उनका रूझान सब्जी उगाने में होगा।
  • अगर देखा जाए तो बिहार किसानों के द्वारा यदि सब्जी का उत्पादन किया जाता हैं तो उन्हें काफी लाभदायक यह सब्जी व्यापार साबित होगा।
  • यह योजना बिहार सरकार द्वारा जारी की गई है। योजना का लाभ उसी एरिया में प्राप्त होगा जिस एरिया में बिहार सरकार द्वारा सब्जी उत्पादन करने के लिए कहा गया हैं।
  • आने वाले समय में बिहार सरकार की योजना कारगर सिद्ध हो सकती हैं जिससे बिहार सरकार के राजस्व में प्रति देखने को मिल सकती है और वहाँ की गरीबी में भी कमी आ सकती है।

 

सब्जी विकास योजना से सम्बंधित मुख्य बातें

  • इस योजना अन्तर्गत उच्च मूल्य के सब्जी का बिचड़े (ब्रोकोली, कलर कैप्सीकम तथा बीज रहित खीरा एवं बैगन) हाईब्रिड सब्जी का बीज (फूलगोभी एवं बंधागोभी-रबी मौसम तथा मिर्च, बैगन एवं लौकी-गरमा) प्याज का बीज, आलू का बीज इकाई लागत का 75 प्रतिशत सहायतानुदान पर दिया जायेगा।
  • प्याज का NHRDF 3 एवं 4 तथा आलू से चिप्स बनाने वाली प्रभेद कुफरी चिपसोना का बीज उपलब्ध कराया जायेगा।
  • योजना अन्तर्गत इकाई लागत का 75 प्रतिशत सहायतानुदान पर प्याज भंडारण संरचना के निर्माण कराये जाने का प्रावधान किया गया है।
  • प्याज भंडारण संरचना का अनुमोदित मॉडल एस्टीमेट एवं संरचना का नक्शा (भूमि संरक्षण निदेशालय द्वारा) तथा मॉडल एस्टीमेट एवं संरचना का नक्शा (बी.ए.यू.,सबौर द्वारा) दिए गए Link पर उपलब्ध है, जिसे आसानी से Download किया जा सकता है।
  • योजना अन्तर्गत सब्जी में किसी एक उप अवयव मे हीं निर्धारित सीमा के तहत् लाभ ले सकते हैं।
  • सब्जी का बिचड़ा प्रत्येक कृषक को न्यूनतम 1000 एवं अधिकतम 10,000 तक सहायतानुदान पर दिया जायेगा।
  • सब्जी का बीज वाले कृषकों को न्यूनतम 0.25 एकड़ एवं अधिकतम 2.5 एकड़ तक का बीज सहायतानुदान पर दिया जायेगा।
  • सब्जी का बिचड़ा की उपलब्धता सेन्टर ऑफ एक्सीलेंस (सब्जी), चंड़ी नालन्दा से तथा सब्जी का बीज की उपलब्धता, बिहार राज्य बीज निगम, पटना के माध्यम से उपलब्ध कराया जायेगा।
  • इस योजना का लाभ रैयत कृषक, जमीन के कागजात के आधार तथा गैर रैयत कृषक एकरारनामा के आधार पर ले सकते है। एकरारनामा का प्रारूप दिए गए Link पर उपलब्ध है,जिसे आसानी से डाउनलोड किया जा सकता है।

 

बिहार सब्जी विकास योजना की पात्रता

  • वह बिहार का मूल निवासी होना चाहिए।
  • उसके पास खेती में न्यूनतम 0.2 और अधिकतम 2.6 एकड़ जमींन भी होनी चाहिए।
  • बिहार सरकार द्वारा जिस जिले में योजना निर्धारित की गई हैं उस जिले का स्थाई निवासी भी होना चाहिए।
  • इस योजना का लाभ रैयत और गैर रैयत दोनों प्रकार के लोग उठा सकते हैं।

 

बिहार सब्जी विकास योजना के दस्तावेज

  • आधार कार्ड
  • पैन कार्ड
  • वोटर आईडी
  • राशन कार्ड
  • निवास प्रमाण पत्र
  • बैंक पासबुक
  • गैर रैयत के लिए इकरारनामा करना होगा।
  • फोटो

 

बिहार सब्जी विकास योजना ऑनलाइन आवेदन

  • सबसे पहले आपको इनकी आधिकारिक वेबसाइट पर जाना हैं वहाँ पर क्लिक करना है।
  • जैसे ही आप वेबसाइट को खोलेंगे आपके सामने एक होम पेज खुलकर सामने आ जाएगा वहाँ पर इस योजना से संबंधित जानकारी लिखी होगी वहाँ पर क्लिक करना है।
  • क्लिक करने के बाद संबंधित जानकारी जो मांगी गई हैं उसे ध्यान पूर्वक भर देना है।
  • ध्यान पूर्वक भर देने के बाद जो भी डॉक्यूमेंट मांगे गये हैं उन्हें भी अटैच करवा देना हैं और उसके बाद फॉर्म को चेक कर लेना हैं।
  • फिर आपको एक नंबर प्राप्त होगा DBT नंबर प्राप्त होगा उस नंबर को भरने के बाद उसे सबमित कर देना है।
  • सबमित हो जाने के बाद आपकी आवेदन प्रक्रिया संपन्न हो गई हैं।

 

बिहार सब्जी विकास योजना में अब तक कितने ऑनलाइन आवेदन प्राप्त हो चुके हैं

बिहार सब्जी विकास योजना में अब तक 7276 आवेदन प्राप्त हो चुके हैं।

Bihar Sabji Vikas Yojana

Leave a Comment

Post Office RD Scheme 2024: गजब की है यह स्कीम, हर महीने निवेश पर मिलेगा शानदार रिटर्न गाय गोठा अनुदान महाराष्ट्र 2024: Gay Gotha Yojana Form, लाभ एवं पात्रता महिलाओं के लिए गारंटी रहित 25 लाख तक का ऋण, जानिए क्या है आवेदन प्रक्रिया झारखण्ड अबुआ आवास योजना किसानों को anaajkharid.in पोर्टल पर पंजीकरण करना है जरुरी, वरना नहीं मिलेगा लाभ